लखनऊ विश्वविद्यालय से सम्बद्ध महाविद्यालयों को महिला शौचालयों में सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन की अनिवार्य रूप से करनी होगी व्यवस्था, कुलपति आलोक कुमार राय ने दिए 10 दिशा- निर्देश, देखें पूरी जानकारी

Share News

लखनऊ। गुरुवार को कुलपति लखनऊ विश्वविद्यालय प्रोफेसर आलोक कुमार राय ने लखनऊ विश्वविद्यालय से संबद्ध लखनऊ, सीतापुर, खीरी-लखीमपुर, हरदोई और रायबरेली के सहायता प्राप्त और राजकीय कालेज के प्राचार्यों के साथ बैठक की और महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश दिए। इस मौके पर कुलपति ने महिला शौचालयों की हमेशा साफ-सफाई रखने के निर्देश दिए। इसी के साथ सेनेटरी नैपकिन की भी व्यवस्था शौचालय के अंदर करने के लिए निर्देश दिए। ताकि छात्राओं को किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े।

राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ कानपुर नगर चुनाव: देखें कौन बना अध्यक्ष, किसके सिर सजा महामंत्री और कोषाध्यक्ष का ताज, देखें वीडियो

कैशलेस इलाज मामले में उत्तर प्रदेश बनने जा रहा है पहला राज्य, इसी महीने लागू हो सकती है ये व्यवस्था, जानें कैसे मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को ये सुविधा, इन 6 बिंदुओं से समझें पूरी योजना

अक्षय कुमार की “पृथ्वीराज’ होगी 3 जून को रिलीज, हरी हर गीत हुआ वायरल, देखें एक्शन से भरा ये वीडियो

चेन लूटकर मसाज करवा रहे बदमाश को पुलिस ने पार्लर में ही धर दबोचा, पकड़े जाने से पहले लुटेरा कटा चुका था बाल, करा चुका था फेशियल

लखनऊ में एमिटी विश्वविद्यालय के पास दो युवतियों से छेड़छाड़, विरोध करने पर शोहदों ने किया हमला, एक युवती घायल, देखें क्या है पूरा मामला

काशी विश्वनाथ पर विवादित बयान देने वाले लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पर छात्रों ने जाति के आधार पर नम्बर देने का लगाया आरोप, निलम्बन न होने तक विरोध जारी रखने की घोषणा, देखें वीडियो

बैठक के अंत में कुलपति ने कहा कि परीक्षा में सभी ने सहयोग किया, इस तरह विश्वविद्यालय आपसे अपेक्षा करता है कि आने वाले परीक्षाओं में भी पूरा सहयोग करेंगे। बैठक में डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रोफेसर पूनम टंडन, कुलानुशासक प्रोफेसर राकेश द्विवेदी, डीन ऐकडेमिक डॉ राकेश चंद्रा, डीन एडमिशन प्रोफेसर वीके शर्मा, डीन कॉलेज डेवलपमेंट काउंसिल प्रोफेसर अवधेश त्रिपाठी, समन्वयक प्रवेश प्रोफ़ेसर पंकज माथुर, सह-समन्वयक प्रवेश संजय मेधावी एवं अनित्य गौरव, कुलसचिव डॉ विनोद कुमार सिंह और परीक्षा नियंत्रक विद्यानंद त्रिपाठी और 38 कालेज के प्राचार्य उपस्थित रहे। कुलसचिव डॉ विनोद कुमार सिंह ने बैठक में आए हुए सभी प्राचार्यो को धन्यवाद ज्ञापित किया।

भारत-बांग्लादेश अध्ययन के लिए होगी शोध पीठ की स्थापना, ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय और बांग्लादेश सरकार के बीच 15 बिंदुओं पर हुई बातचीत, ढाका व लखनऊ छात्रों के लिए स्थापित किया जाएगा स्टार्टअप्स

EDU RANK:ईडीयू की वर्ल्ड रैंकिंग में लखनऊ विश्वविद्यालय की स्थिति हुई मजबूत, IIT कानपुर को मिला पहला स्थान, दूसरे पर BHU और तीसरे पर रहा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय

कुलपति ने दिए ये 10 निर्देश

अपने कॉलेज के समस्त शौचालयों में साफ-सफाई व्यवस्था का ध्यान दें, विशेषकर महिला शौचालयों में सफाई में बिल्कुल लापरवाही ना हो।

सभी कॉलेज के छात्र-छात्राओं का संपूर्ण डाटा प्रवेश के पश्चात लखनऊ विश्वविद्यालय के वेबसाइट पर उपलब्ध होगा।

शुद्ध पेयजल की व्यवस्था हमेशा उपलब्ध होनी चाहिए।

अपने कॉलेज के छात्र-छात्राओं को विश्वविद्यालय के विभिन्न सांस्कृतिक एवं खेल-कूद की गतिविधियों में प्रतिभाग करने के लिए प्रोत्साहित करें।

महिला शौचालयों के अंदर सेनेटरी नैपकिन के लिए वेंडिंग मशीन की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करें। हम लोग विभिन्न कालेजों को वेंडिंग मशीन की सुविधा उपलब्ध भी करा सकते हैं।

लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र-छात्राओं से संबंधित जिन विभिन्न योजनाओं लाभ उनको देता है वैसे ही आप लोग भी उन योजनाओं को लागू कर सकते हैं। जैसे TREE।

LUCKNOW:बाबुओं के आगे-पीछे नहीं काटने पड़ेंगे चक्कर, हाउस टैक्स प्रणाली में होने जा रहा है सुधार, जनता को बिचौलियों से मिलेगी मुक्ति, मेयर ने दिए महत्वपूर्ण निर्देश

DIABETES: अगर सेक्स इच्छा में आ रही है कमी तो…कहीं आप मधुमेह के शिकार तो नहीं हो रहे, जानें मधुमेह के 19 लक्षण

लोकमंगल दिवस: 63 लाख के टैक्स पर बाबुओं ने बनाया सेटलमेंट का दबाव, चेक कराई बाउंस, महापौर के सामने व्यापारी ने खोली पोल, मातहतों पर लटकी कार्यवाही की तलवार, जांच शुरू

HEALTH TIPS:रोजाना पिएं आंवला की चाय, थकान और तनाव तो दूर होगा ही, उतर जाएगा चश्मा भी, कोरोना में लाभ के साथ ही मिलेंगे 10 और फायदे, जानें चाय बनाने की विधि

LUCKNOW UNIVERSITY:31 मई तक भरे जाएंगे BCA और LLB पांच वर्ष के फार्म, देखें एलएलबी तीन वर्ष व LLM के फार्म की अंतिम तारीख, एमएससी केमेस्ट्री प्रेक्टिकल की तारीखें घोषित

जो कॉलेज अभी तक नैक तथा NIRF में अप्लाई ना कर पाए हो वह इसने अवश्य प्रतिभाग करें।

सभी कॉलेज में कैरियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत प्रोन्नति होनी चाहिए। किंतु उसके लिए यूजीसी के नियम के तहत कॉलेज अपना आइक्यूएसी सेल (IQAC cell) का सृजन करें और विश्वविद्यालय के आइक्यूएसी निदेशक से संबंधित प्राचार्य उसको वेरीफाई कराएं, जिससे नियमों का अनुपालन सुनिश्चहित हो।
लखनऊ विश्वविद्यालय में अब तक लगभग 150 शिक्षकों की प्रोन्नतियां हो चुकी हैं।

महाविद्यालय केंद्रीयकृत प्रवेश प्रक्रिया में भाग ले सकते हैं।

कॉलेजों के शिक्षकों को पीएचडी कराने के लिए 2020 के ऑर्डिनेंस में संशोधन हो चुका है। पूर्व में केवल पीजी कॉलेज के शिक्षक ही पीएचडी करा सकते थे। लेकिन अब यूजी कॉलेज के शिक्षक भी पीएचडी करा सकते हैं। लेकिन पीएचडी कराने के लिए ऑर्डिनेंस के तहत उनकी अर्हता होनी चाहिए। यह ऑर्डिनेंस विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। आप अपने कालेज के शिक्षकों से उस ऑर्डिनेंस के तहत अप्लाई करने को कह सकते हैं। समस्त पीएचडी के आवेदन संबंधित विभागाध्यक्षों के पास भेजे जाएंगे।

पढ़ें अन्य खबरें-

UTTAR PRADESH:हुलिया बदलने के बावजूद भी नहीं बच सकेंगे अपराधी, अत्याधुनिक कैमरों से लैस होगा पूरा प्रदेश, जानें कितने कैमरे जाएंगे खरीदे, देखें किस तरह काम करेगा FACE RECOGNITION CAMERA

आईटीआई, पॉलिटेक्निक और बीटेक छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए जल्द ही AKTU में स्थापित की जाएगी आइडिया लैब, स्वीकृत हुआ अनुदान, जाने लैब की विशेषता

घरेलू गैस सिलेंडर के दाम बढ़ने के बाद लोगों ने शुरू किया अनूठा विरोध, देखें कैसे-कैसे वीडियो किए जा रहे हैं वायरल, जाने लखनऊ में कितना बढ़ा रेट

लखनऊ विश्वविद्यालय को मिली 6 नई प्रयोगशालाएं, मानक के अनुसार दवाओं का होगा परीक्षण एवं शुद्धता की जाँच, देखें फार्मा से जुड़े और कौन-कौन से हो सकेंगे प्रयोग

Leave a Comment

Your email address will not be published.