काशी विश्वनाथ पर विवादित बयान देने वाले लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पर छात्रों ने जाति के आधार पर नम्बर देने का लगाया आरोप, निलम्बन न होने तक विरोध जारी रखने की घोषणा, देखें वीडियो, क्या कहा था प्रोफेसर ने

Share News

लखनऊ। काशी विश्वनाथ पर विवादित बयान देकर चौतरफा घिरे लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डा. रविकांत को निलम्बित करने की मांग बढ़ती जा रही है। छात्रों के साथ ही कई हिंदु संगठनों और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने निलम्बन न होने तक विरोध जारी रखने की घोषणा की। बुधवार को भी विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय कैम्पस में प्रोफेसर के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जल्द निलम्बित करने की मांग की और कहा कि अगर इस हफ्ते उनको निलम्बित नहीं किया जाएगा तो सभी विद्यार्थी उनकी कक्षा का बायकॉट कर देंगे।

भारत-बांग्लादेश अध्ययन के लिए होगी शोध पीठ की स्थापना, ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय और बांग्लादेश सरकार के बीच 15 बिंदुओं पर हुई बातचीत, ढाका व लखनऊ छात्रों के लिए स्थापित किया जाएगा स्टार्टअप्स

EDU RANK:ईडीयू की वर्ल्ड रैंकिंग में लखनऊ विश्वविद्यालय की स्थिति हुई मजबूत, IIT कानपुर को मिला पहला स्थान, दूसरे पर BHU और तीसरे पर रहा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय

प्रोफेसर की इसी बयान के बाद ही उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

LUCKNOW:बाबुओं के आगे-पीछे नहीं काटने पड़ेंगे चक्कर, हाउस टैक्स प्रणाली में होने जा रहा है सुधार, जनता को बिचौलियों से मिलेगी मुक्ति, मेयर ने दिए महत्वपूर्ण निर्देश

DIABETES: अगर सेक्स इच्छा में आ रही है कमी तो…कहीं आप मधुमेह के शिकार तो नहीं हो रहे, जानें मधुमेह के 19 लक्षण

लोकमंगल दिवस: 63 लाख के टैक्स पर बाबुओं ने बनाया सेटलमेंट का दबाव, चेक कराई बाउंस, महापौर के सामने व्यापारी ने खोली पोल, मातहतों पर लटकी कार्यवाही की तलवार, जांच शुरू

HEALTH TIPS:रोजाना पिएं आंवला की चाय, थकान और तनाव तो दूर होगा ही, उतर जाएगा चश्मा भी, कोरोना में लाभ के साथ ही मिलेंगे 10 और फायदे, जानें चाय बनाने की विधि

LUCKNOW UNIVERSITY:31 मई तक भरे जाएंगे BCA और LLB पांच वर्ष के फार्म, देखें एलएलबी तीन वर्ष व LLM के फार्म की अंतिम तारीख, एमएससी केमेस्ट्री प्रेक्टिकल की तारीखें घोषित

बुधवार को हिंदू राष्ट्र शक्ति ने कुलपति को सम्बोधित ज्ञापन प्रॉक्टर को सौंपा। इस मौके पर बड़ी संख्या में साधु-संत और विद्यार्थी मौजूद रहे। इस सम्बंध में हिंदू राष्ट्र शक्ति के सह संस्थापक मृत्युंजय सिंह ने कहा कि डा. रविकांत के बयान ने सनातन धर्म को मानने वाले पूरे समाज की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। उनके इस कृत्य ने धार्मिक उन्माद फैलाने और नफरत की भावना को बढ़ाने का काम किया है। ऐसे प्रोफेसर विश्वविद्यालय की शिक्षा पद्धति को खराब करने का काम कर रहे हैं। इसलिए हिंदू राष्ट्र शक्ति परिवार प्रो. रविकांत के निष्कासन की मांग करता है। इसी के साथ मृत्युंजय ने बताया कि कई छात्रों ने आरोप लगाया है कि डा. रविकांत जाति के आधार पर असाइमेंट में नम्बर देते हैं।

UTTAR PRADESH:हुलिया बदलने के बावजूद भी नहीं बच सकेंगे अपराधी, अत्याधुनिक कैमरों से लैस होगा पूरा प्रदेश, जानें कितने कैमरे जाएंगे खरीदे, देखें किस तरह काम करेगा FACE RECOGNITION CAMERA

आईटीआई, पॉलिटेक्निक और बीटेक छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए जल्द ही AKTU में स्थापित की जाएगी आइडिया लैब, स्वीकृत हुआ अनुदान, जाने लैब की विशेषता

घरेलू गैस सिलेंडर के दाम बढ़ने के बाद लोगों ने शुरू किया अनूठा विरोध, देखें कैसे-कैसे वीडियो किए जा रहे हैं वायरल, जाने लखनऊ में कितना बढ़ा रेट

लखनऊ विश्वविद्यालय को मिली 6 नई प्रयोगशालाएं, मानक के अनुसार दवाओं का होगा परीक्षण एवं शुद्धता की जाँच, देखें फार्मा से जुड़े और कौन-कौन से हो सकेंगे प्रयोग

प्रो. डा. रविकांत (लाल घेरे में)

हालांकि इस सम्बंध में प्रो. रविकांत का पक्ष जानने के लिए फोन किया गया तो उनका फोन नहीं उठा। तो वहीं बीए सेकेंड इयर के छात्र व उपाध्यक्ष अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद विन्ध्यवासिनी शुक्ला ने बताया कि वह उनकी कक्षा के ही छात्र हैं। विन्ध्यवासिनी शुक्ला ने बताया कि छात्रों को नम्बर देना सिर्फ उनके हाथ में नहीं होता, इसलिए वह इस मामले में ज्यादा कुछ नहीं कर पाते, लेकिन जब भी वह क्लास में आते हैं तो एक ही नहीं सभी धर्मों का अपमान करने वाली ही बात करते हैं। कई बार वह ऐसा कर चुके हैं, लेकिन इस बार उनके बयान ने सारी हदें पार कर दी हैं।

योगी कैबीनेट में पास हुए 13 प्रस्ताव: राजपत्रित खिलाड़ियों को UP में मिलेगी सीधी नियुक्ति, भातखंडे संगीत महाविद्यालय का बदल दिया गया नाम, देखें कौन बना महाधिवक्ता

रोंगटे खड़े कर देने वाला वीडियो आया सामने, तेंदुए ने पुलिस और वन विभाग कर्मचारियों को बनाया शिकार, कूद-कूद कर किया अटैक

50 साल के शिक्षक पिता ने 18 साल की बेटी के साथ किया दुष्कर्म, साक्ष्य के तौर पर पीड़िता ने पुलिस को दिया वीडियो, जांच शुरू, देखें कहां का है मामला

गांवों के लिए “मां” बना AKTU, 11 आंगनबाड़ी केंद्रों और 21 टीबी ग्रसित बच्चों को लिया गोद, अनाथ बच्चों का बना “नाथ”, उन्नत खेती के लिए किसानों को दे रहा है तकनीकी जानकारी, 568 छात्रों को दी गई आर्थिक मदद

शिक्षक संगठन भी उनके विरोध में उतर आए हैं। यह विरोध तब तक चलता रहेगा, जब तक उनको निलम्बित नहीं किया जाता। बता दें कि इस मामले में मंगलवार को ही प्रो. रविकांत पर मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। हालांकि उनकी ओर से भी मुकदमा दर्ज कराया गया है। बता दें कि विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से भी प्रोफेसर रविकांत से स्पष्टीकरण मांगा गया है। गौरतलब है कि मंगलवार को विरोध होने के बाद ही प्रोफेसर रविकांत ने अपने बयान पर खेद जाहिर कर दिया था, लेकिन विद्यार्थियों व हिंदू संगठनों का कहना है कि उन्होंने जिस तरह से खेद जताया व खेद नहीं लगता। इसलिए उनको निलम्बित किया जाए।

पढ़ें अन्य खबरें-

शौचालय के अंदर बने गुप्त दरवाजे के पीछे चल रहा था सेक्स रैकेट का खुला खेल, छापेमारी करने गई पुलिस हो गई दंग, देखें वायरल वीडियो

सिंधौली CHC में लापरवाही पर मंत्री नन्दी ने लगाई CMO को फटकार, BSA को नहीं मालूम मेन्यू और मानक, पुराना OPD रजिस्टर दिखाने से फार्मासिस्ट ने किया इनकार,यहां विधायक की भी नहीं सुनी जाती,बिजली मिलती है मात्र 6 घंटें, हैंडपम्प के नीचे नहाए नन्दी, देखें वीडियो

Leave a Comment

Your email address will not be published.