INTERNATIONAL YOGA DAY:लखनऊ विश्वविद्यालय के योग शिक्षक डॉ अमरजीत यादव को बनाया गया योग अमृत माह का कोऑर्डिनेटर, प्रदेश के 7.5 करोड़ लोगों को जोड़ा जाएगा कार्यक्रम से, देखें पूरी लिस्ट, वीडियो

Share News

लखनऊ। आठवां अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून, 2022 को मनाया जाएगा। इसके तहत उत्तर प्रदेश शासन द्वारा व्यापक स्तर पर प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर योग कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इसके अंतर्गत 21 मई, 2022 से 21 जून, 2022 तक योग अमृत माह मनाया जाएगा। योग दिवस के कार्यक्रम, राज्य, जनपद, तहसील, ब्लॉक, पंचायत, स्तर पर मनाए जाने की योजना बनाई गई है। इसके तहत कुल 7.5 करोड़ लोगों को इस भव्य कार्यक्रम से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। उत्तर प्रदेश शासन, आयुष विभाग द्वारा उक्त कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिए राज्य स्तरीय समिति का गठन किया गया है, जिसमें लखनऊ विश्वविद्यालय की फ़ैकल्टी ऑफ योग एंड अल्टरनेटिव मेडिसिन के शिक्षक एवं कोऑर्डिनेटर डॉ. अमरजीत यादव को उक्त समिति में कोऑर्डिनेटर नामित किया गया है।

अगरबत्ती-धूपबत्ती का प्रशिक्षण प्राप्त कर शुरू करें स्वरोजगार, दूसरों को भी दें रोजगार, ट्रेनिंग FFDC में 23 मई से, जानें क्या हैं प्रशिक्षण की 14 विशेषताएं

पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक और युवतियों के लिए ‘O’लेवल एवं CCC कम्प्यूटर प्रशिक्षण 25 जून से, देखें आवेदन से जुड़े 7 महत्वपूर्ण बिंदु

LUCKNOW:26 मई को राजधानी में लगने जा रहा है रोजगार मेला, ऑनलाइन करना होगा आवेदन, नहीं देना होगा कोई शुल्क, 30 कम्पनियां ले रही हैं हिस्सा, देखें पूरी जानकारी

AKTU: 25 मई से शुरू होने जा रही परीक्षा की तैयारियां पूरी, 117 केंद्रों पर बैठेंगे 1 लाख 15 हजार परीक्षार्थी, छात्रों को दिए गए निर्देश, 6 लाख कॉपियों का हुआ मूल्यांकन

LOK ADALAT-14 MAY:यातायात सम्बन्धी चालानों का घर बैठे करें भुगतान, देखें कैसे करना होगा ई-पेमेंट

उत्तर प्रदेश की राजधानी सहित सभी जनपदों की तहसीलों पर 14 मई 2022 को होगा राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन, देखें किन लंबित वादों का तत्काल किया जाएगा निस्तारण

LUNAR ECLIPSE MAY 2022:चंद्रग्रहण 16 मई को, गर्भवती महिलाएं करें 7 उपाय, तुलसीदल वाला ही पिएं पानी, पूजा स्थल पर्दे से ढक कर रखें, देखें साल में कितने ग्रहण दिखाई पड़ेंगे भारत में

बता दें कि डा. अमरजीत योग के प्रचार-प्रसार के लिए प्राय: ही कार्यशालाओं आदि का आयोजन करते रहते हैं। हाल ही में उन्होंने योग की दो पुस्तकें भी लांच की हैं, जो लोगों को मुफ्त में उपलब्ध कराई जा रही हैं। हाल ही में उन्होंने पी नेचुरोपैथी एंड योग टीचर्स एंड फिजिशियन एसोसिएशन की आवश्यक बैठक अलीगंज में की थी। जिसमें उन्होंने जानकारी दी थी कि योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त चिकित्सा पद्धति है। यह चिकित्सा पद्धति औषधि विहीन है। इसमें पंचतत्वों से उपचार किया जाता है। योग और प्राकृतिक चिकित्सा सम्पूर्ण विश्व में स्वास्थ प्राप्ति का महत्वपूर्ण साधन बन गई है। उत्तर प्रदेश जैसे विशाल राज्य की जलवायु और भौगौलिक स्थिति के अनुसार यह पद्धति बहुत ही उपयुक्त है। यदि उत्तर प्रदेश सरकार इस चिकित्सा पद्धति को अपनी स्वास्थ्य सेवाओं में शामिल करे तो प्रदेश के स्वास्थ्य बजट में कमी लाई जा सकती है और प्रदेशवासियों को स्वास्थ्य संकट से बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया जा सकता है।

नगर निगम में शामिल हुए 88 नए गावों को लखनऊ मेयर संयुक्ता भाटिया ने दिया विकास का तोहफा, प्रत्येक गांव में लगेंगे समरसेविल पम्प और एलईडी लाइट, बजट में कराया 44 करोड़ का प्रावधान

AKTU:उत्तर प्रदेश के फार्मास्युटिकल छात्रों के बेहतर भविष्य व रोजगार के लिए एकेटीयू में किया गया मंथन, जानें विश्व के फार्मा उद्योगों को आकर्षित करने के लिए विशेषज्ञों ने क्या दिए सुझाव

उत्तर प्रदेश की राजधानी बनेगी और भी “स्मार्ट”, इस यूनिक पहल से लखनऊ वासियों की सुधारी जाएगी हेल्थ, देखें और क्या होने जा रहा है नवाबों के शहर में नया

भीषण गर्मी में निकली अनोखी बारात, धूप से बचने के लिए पहिया वाले टेंटे के नीचे नाचते-गाते सड़क पर निकले बाराती, देखें वायरल वीडियो

“धाकड़” के ट्रेलर लांच पर कंगना ने हेलिकॉप्टर से ली धाकड़ एंट्री, देखें एक्शन से भरपूर वायरल वीडियो

योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा को मान्यता दिलाने की उठाई आवाज
डॉ यादव ने जानकारी दी कि कई दशक बीत जाने के बाद भी उत्तर प्रदेश में इस चिकित्सा पद्धति की संस्थाओं की मान्यता और चिकित्सकों के पंजीकरण के लिए कोई नियमावली नही बनाई गई है, जिसके कारण योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा में कार्य करने वाले लोगो का भविष्य अधर में है और भारतीय पुरातन इस चिकित्सा पद्धति का अस्तित्व भी खतरे में है। इन विषमताओं को महसूस करते हुए उन्होंने माननीय उच्च न्यायालय, इलाहाबाद, खंड पीठ लखनऊ में एक याचिका दायर करके नियमावली बनाने हेतु गुहार लगाई गई थी। माननीय उच्च न्यायालय ने याचिका को स्वीकार करते हुए 2014 में उत्तर प्रदेश सरकार को नियमावली बनाने के लिए आदेश प्रदान किया था किंतु आज तक नियमावली नही बनाई गई है। बता दें कि डा. यादव यूपी नेचुरोपैथी एंड योग टीचर्स एंड फिजिशियन एसोसिएशन के अध्यक्ष भी हैं।

लखनऊ में एमिटी विश्वविद्यालय के पास दो युवतियों से छेड़छाड़, विरोध करने पर शोहदों ने किया हमला, एक युवती घायल, देखें क्या है पूरा मामला

काशी विश्वनाथ पर विवादित बयान देने वाले लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पर छात्रों ने जाति के आधार पर नम्बर देने का लगाया आरोप, निलम्बन न होने तक विरोध जारी रखने की घोषणा, देखें वीडियो

भारत-बांग्लादेश अध्ययन के लिए होगी शोध पीठ की स्थापना, ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय और बांग्लादेश सरकार के बीच 15 बिंदुओं पर हुई बातचीत, ढाका व लखनऊ छात्रों के लिए स्थापित किया जाएगा स्टार्टअप्स

EDU RANK:ईडीयू की वर्ल्ड रैंकिंग में लखनऊ विश्वविद्यालय की स्थिति हुई मजबूत, IIT कानपुर को मिला पहला स्थान, दूसरे पर BHU और तीसरे पर रहा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय

पढ़ें अन्य खबरें भी-

लखनऊ में शिक्षा माफियाओं के खिलाफ सड़क पर उतरे शिक्षक, लगाया आरोप, कहा FIR दर्ज पर नहीं हो रही है कोई कार्यवाही, मुख्यमंत्री से की चार मांग, देखें वीडियो

LUCKNOW:पहला बड़ा मंगल 17 मई को, विदेशी भक्तों के लिए होगी ग्लोबल मीटिंग, ई-भंडारे के लिए करें वेबसाइट पर आवेदन, देखें फोन नम्बर, स्वच्छता से भंडारा करने पर मेयर की ओर से मिलेगा गिफ्ट, देखें 7 अपील

LUCKNOW:मेयर ने दिया अल्टीमेटम, 7 दिनों में करें हाउस टैक्स की सभी फाइलों का निस्तारण, अगर जनता को लगवाया चक्कर, तो होगी कड़ी कार्यवाही

लखनऊ विश्वविद्यालय से सम्बद्ध महाविद्यालयों को महिला शौचालयों में सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन की अनिवार्य रूप से करनी होगी व्यवस्था, कुलपति आलोक कुमार राय ने दिए 10 दिशा- निर्देश, देखें पूरी जानकारी

चेन लूटकर मसाज करवा रहे बदमाश को पुलिस ने पार्लर में ही धर दबोचा, पकड़े जाने से पहले लुटेरा कटा चुका था बाल, करा चुका था फेशियल

लखनऊ में हुई आग की दो घटनाएं, विश्व स्तरीय फिनिक्स प्लासियो मॉल में आग से मची अफरा-तफरी, अमीनाबाद में ट्रांसफार्मर में लगी आग, जले ठेले और कपड़े, देखें वीडियो

Leave a Comment

Your email address will not be published.