नवरात्र में चांदी की ये सामग्री खरीद कर तिजोरी में रखने से होती है धनवर्षा, जरूर लगाएं तुलसी का पौधा, प्वाइंट्स में देखें नवरात्र से जुड़ीं 6 जरूरी बातों के साथ पूजन सामग्री-पूजन विधि व कलश स्थापना मूहूर्त

April 1, 2022 by No Comments

Share News

नवरात्र स्पेशल। आचार्य विनोद कुमार मिश्र, निदेशक,भारतीय ज्योतिष अनुसन्धान संस्थान बताते हैं कि अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में हमेशा धन-समृद्धि बनी रहे और धन की बारिश होती रहे तो नवरात्र में चांदी का स्‍वास्तिक, हाथी, दीपक, कलश, श्रीयंत्र या मुकुट आदि में से कोई भी एक चीज खरीद लें और इसे देवी के चरणों में रख दें। नवरात्र के आखिरी दिन उसे गुलाबी कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी या पैसे रखने की जगह पर रख दें। तो वहीं नवरात्र के दिनों में तुलसी का पौधा लगाना बहुत ही शुभ माना गया है। बता दें कि इस बार नवरात्र 2 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं। इसको लेकर मंदिरों से लेकर घरों तक में तैयारी पूरी हो गई है। यह हिंदू धर्म का व्रत का सबसे बड़ा पर्व है। इसमें नौ दिन तक भक्त व्रत रखते हैं।

NAVRATRI-NAVSANVATSAR WISHES: दिल में प्रेम बीज सब रोपें, यूँ हो देवी की अगुवाई…देखें कवयित्रियों द्वारा रचित नवरात्र व नवसंवत्सर शुभकामना संदेश, अपनों को भेजकर दें मां भगवती का आशीर्वाद

नवरात्र पूजन विधि
शनिवार 02 अप्रैल से नवरात्र शुरू हो रहे हैं। नवरात्र के प्रत्येक दिन माँ भगवती के एक स्वरुप श्री शैलपुत्री, श्री ब्रह्मचारिणी, श्री चंद्रघंटा, श्री कुष्मांडा, श्री स्कंदमाता, श्री कात्यायनी, श्री कालरात्रि, श्री महागौरी, श्री सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। यह क्रम चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को प्रातःकाल शुरू होता है। प्रतिदिन शीघ्र स्नान कर माँ भगवती का ध्यान तथा पूजन करना चाहिए। सर्वप्रथम कलश स्थापना की जाती है और नवमी को कन्या भोज व हवन के साथ व्रत का समापन होता है। जो नौ दिन तक व्रत रखते हैं, वह दशमी को पारण करते हैं।

कलश स्थापना शुभ मुहूर्त
02 अप्रैल शनिवार को प्रातः 06:31 से 08:31 तक
अभिजित मुहूर्त मध्यान्ह 11:30 से दोपहर 12:30 तक

कलश स्थापना विधि
देवी पुराण के अनुसार मां भगवती की पूजा-अर्चना करते समय सर्वप्रथम कलश की स्थापना की जाती है। कलश स्थापना करना अर्थात नवरात्र की कालावधि में ब्रह्मांड में कार्यरत शक्ति तत्त्व का कलश में आवाहन कर उसे कार्यरत करने से कार्यरत शक्ति तत्त्व के कारण वास्तु में विद्यमान कष्टदायक तरंगें समूल नष्ट हो जाती है। धर्मशास्त्रों के अनुसार कलश को सुख-समृद्धि, वैभव और मंगल कामनाओं का प्रतीक माना गया है। कलश के मुख में विष्णुजी का निवास, कंठ में रुद्र तथा मूल में ब्रह्मा स्थित हैं और कलश के मध्य में दैवीय मातृशक्तियां निवास करती हैं।

सामग्री
जौ बोने के लिए मिट्टी का पात्र
जौ बोने के लिए शुद्ध साफ़ की हुई मिटटी
पात्र में बोने के लिए जौ
कलश स्थापना के लिए मिट्टी का कलश (“हैमो वा राजतस्ताम्रो मृण्मयो वापि ह्यव्रणः” अर्थात ‘कलश’ सोने, चांदी, तांबे या मिट्टी का छेद रहित और सुदृढ़ उत्तम माना गया है । वह मङ्गलकार्यों में मङ्गलकारी होता है )
कलश में भरने के लिए शुद्ध जल, गंगाजल, मौली, इत्र, साबुत सुपारी, दूर्वा, कलश में रखने के लिए सिक्के,पंचरत्न,अशोक या आम के 5 पत्ते, कलश ढकने के लिए ढक्कन, ढक्कन में रखने के लिए बिना टूटे चावल, पानी वाला नारियल, नारियल पर लपेटने के लिए लाल कपडा, फूल माला।

विधि
सबसे पहले जौ बोने के लिए मिट्टी का पात्र लें। इस पात्र में मिट्टी की एक परत बिछाएं। अब एक परत जौ की बिछाएं। इसके ऊपर फिर मिट्टी की एक परत बिछा दें। अब फिर एक परत जौ की बिछाएं। जौ के बीच चारों तरफ बिछाएं ताकि जौ कलश के नीचे न दबे। इसके ऊपर फिर मिट्टी की एक परत बिछाएं। अब कलश के कंठ पर मौली बाँध दें। कलश के ऊपर रोली से ॐ और स्वास्तिक लिखें। अब कलश में शुद्ध जल, गंगाजल कंठ तक भर दें। कलश में साबुत सुपारी, दूर्वा, फूल डालें। कलश में थोडा सा इत्र डाल दें। कलश में पंचरत्न डालें। कलश में कुछ सिक्के रख दें। कलश में अशोक या आम के पांच पत्ते रख दें। अब कलश का मुख ढक्कन से बंद कर दें। ढक्कन में चावल भर दें। श्रीमद्देवीभागवत पुराण के अनुसार “पञ्चपल्लवसंयुक्तं वेदमन्त्रैः सुसंस्कृतम्। सुतीर्थजलसम्पूर्णं हेमरत्नैः समन्वितम्॥” अर्थात कलश पंचपल्लवयुक्त, वैदिक मन्त्रों से भली भाँति संस्कृत, उत्तम तीर्थ के जल से पूर्ण और सुवर्ण तथा पंचरत्न मयी होना चाहिए।

नारियल का मुख नीचे की ओर रखने से होती है शत्रु में वृद्धि
नारियल पर लाल कपडा लपेट कर मौली लपेट दें। अब नारियल को कलश पर रखें। शास्त्रों में उल्लेख किया गया है कि “अधोमुखं शत्रु विवर्धनाय,ऊर्ध्वस्य वस्त्रं बहुरोग वृध्यै। प्राचीमुखं वित विनाशनाय,तस्तमात् शुभं संमुख्यं नारीकेलं”। अर्थात् नारियल का मुख नीचे की तरफ रखने से शत्रु में वृद्धि होती है। नारियल का मुख ऊपर की तरफ रखने से रोग बढ़ते हैं, जबकि पूर्व की तरफ नारियल का मुख रखने से धन का विनाश होता है। इसलिए नारियल की स्थापना सदैव इस प्रकार करनी चाहिए कि उसका मुख साधक की तरफ रहे। ध्यान रहे कि नारियल का मुख उस सिरे पर होता है, जिस तरफ से वह पेड़ की टहनी से जुड़ा होता है।

नवरात्र का कन्या भोज कनेक्शन: नौ देवियों को प्रसन्न करने के लिए प्रतिपदा से नवमी तक कन्याओं को दें ये तोहफा

अब कलश को उठाकर जौ के पात्र में बीचो बीच रख दें और कलश में सभी देवी देवताओं का आवाहन करें। “हे सभी देवी देवता और माँ दुर्गा आप सभी नौ दिनों के लिए इसमें पधारें।” अब दीपक जलाकर कलश का पूजन करें। धूपबत्ती कलश को दिखाएं। कलश को माला अर्पित करें। कलश को फल मिठाई अर्पित करें। कलश को इत्र समर्पित करें।

मां दुर्गा चौकी की करें स्थापना
कलश स्थापना के बाद माँ दुर्गा की चौकी स्थापित की जाती है। नवरात्रि के प्रथम दिन एक लकड़ी की चौकी की स्थापना करनी चाहिए। इसको गंगाजल से पवित्र करके इसके ऊपर सुन्दर लाल वस्त्र बिछाना चाहिए। इसको कलश के दायीं ओर रखना चाहिए। उसके बाद माँ भगवती की धातु की मूर्ति अथवा नवदुर्गा का फ्रेम किया हुआ फोटो स्थापित करना चाहिए। मूर्ति के अभाव में नवार्णमन्त्र युक्त यन्त्र को स्थापित करें। माँ दुर्गा को लाल चुनरी उड़ानी चाहिए। माँ दुर्गा से प्रार्थना करें “हे माँ दुर्गा आप नौ दिन के लिए इस चौकी में विराजिये।” उसके बाद सबसे पहले माँ को दीपक दिखाइए। उसके बाद धूप, फूलमाला, इत्र समर्पित करें। फल, मिठाई अर्पित करें।

प्रतिदिन करें दुर्गा सप्तशती का पाठ
नवरात्रि में नौ दिन मां भगवती का व्रत रखने का तथा प्रतिदिन दुर्गा सप्तशती का पाठ करने का विशेष महत्व है। हर एक मनोकामना पूरी हो जाती है। सभी कष्टों से छुटकारा दिलाता है। नवरात्रि के प्रथम दिन ही अखंड ज्योति जलाई जाती है जो नौ दिन तक जलती रहती है। दीपक के नीचे “चावल” रखने से माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है तथा “सप्तधान्य” रखने से सभी प्रकार के कष्ट दूर होते है

नवरात्र से जुड़ी 6 जरूरी बातें
माता की पूजा “लाल रंग के कम्बल” के आसन पर बैठकर करना उत्तम माना गया है

नवरात्र के प्रतिदिन मां को फूलों का हार चढ़ाना चाहिए। प्रतिदिन घी का दीपक (माता के पूजन हेतु सोने, चाँदी, कांसे के दीपक का उपयोग उत्तम होता है) जलाकर माँ भगवती को मिष्ठान का भोग लगाना चाहिए। मां भगवती को इत्र विशेष प्रिय है।

नवरात्र के प्रतिदिन कंडे की धुनी जलाकर उसमें घी, हवन सामग्री, बताशा, लौंग का जोड़ा, पान, सुपारी, कर्पूर, गूगल, इलायची, किसमिस, कमलगट्टा जरूर अर्पित करना चाहिए।

लक्ष्मी प्राप्ति के लिए नवरात्रि में पान और गुलाब की ७ पंखुरियां रखें तथा मां भगवती को अर्पित कर दें।
मां दुर्गा को प्रतिदिन विशेष भोग लगाया जाता है।

प्रतिदिन कन्याओं का विशेष पूजन किया जाता है। श्रीमद्देवीभागवत पुराण के अनुसार “एकैकां पूजयेत् कन्यामेकवृद्ध्या तथैव च। द्विगुणं त्रिगुणं वापि प्रत्येकं नवकन्तु वा॥” अर्थात नित्य ही एक कुमारी का पूजन करें अथवा प्रतिदिन एक-एक-कुमारी की संख्या के वृद्धिक्रम से पूजन करें अथवा प्रतिदिन दुगुने-तिगुने के वृद्धिक्रम से और या तो प्रत्येक दिन नौ कुमारी कन्याओं का पूजन करें।

यदि कोई व्यक्ति नवरात्र पर्यन्त प्रतिदिन पूजा करने में असमर्थ हैं तो उसे अष्टमी तिथि को विशेष रूप से अवश्य पूजा करनी चाहिए। प्राचीन काल में दक्ष के यज्ञ का विध्वंश करने वाली महाभयानक भगवती भद्रकाली करोङों योगिनियों सहित अष्टमी तिथि को ही प्रकट हुई थीं।

नोट: यह लेख धार्मिक मान्यताओं व धर्म शास्त्रों पर आधारित है। हम अंधविश्वास को बढ़ावा नहीं देते। पाठक धर्म से जुड़े किसी भी कार्य को करने से पहले अपने पुरोहित या आचार्य से अवश्य परामर्श ले लें। Khabar Sting इसकी पुष्टि नहीं करता।)

पढ़ें ये खबरें भी-

अगर 2 अप्रैल को दिख जाए रमज़ान का चांद तो इन मोबाइल नम्बरों पर दें जानकारी

MADHYA PRADESH:पिछले 20 घंटों में रीवा पुलिस की तीन बड़ी कार्यवाही, दुष्कर्म के आरोपी महंत के साथ ही उसके सहयोगी विनोद पाण्डेय और भूमाफिया कृष्ण देव सिंह के पुश्तैनी मकानों को बुलडोजर चलाकर किया गया जमींदोज, मुख्यमंत्री ने कही ये बड़ी बात, देखें वीडियो

HINDI NEW YEAR WISHES:चैत्र माह में नवसंवत्सर लेकर मातु भवानी है आई…आप सभी को खूब बधाई….एकदम नए बधाई संदेशों के साथ अपनों को भेजें हिंदी नववर्ष की शुभकामना, देखें क्या कहता है ब्रह्मपुराण

CHAITRA NAVRATRI-2022:नवरात्र कल से, राशि के अनुसार फूलों को अर्पित कर, मां भगवती को करें प्रसन्न, शनि की छाया से मुक्ति पाने के लिए चढ़ाएं इस रंग का फूल

दो साल बाद शुरू हो रही अमरनाथ यात्रा की तारीख घोषित, रक्षाबंधन को समाप्त होगी यात्रा, जानें कितनी तारीख से भक्तों को हो सकेंगे बाबा बर्फानी के दर्शन