UP News: बेसिक शिक्षकों के तबादले को लेकर सचिव ने जारी किया नया फरमान, BSA को दिए गए बड़े निर्देश

January 28, 2024 by No Comments

Share News

UP News: उत्तर प्रदेश में लम्बे समय से तबादला को लेकर बेसिक शिक्षा परेशान हैं और इसकी मांग कर रहे हैं. बेसिक शिक्षकों का कहना है कि, वे एक ही ब्लाक मे 10-10 साल से नियुक्त हैं लेकिन उनका तबादला नहीं किया गया तो वहीं खबर सामने आ रही है कि, ट्रांसफर को लेकर हाल ही में बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव की ओर से एक नया फरमान जारी किया गया है. निर्देश के मुताबिक, ट्रांसफर होने के बाद जो शिक्षक कार्यग्रहण नहीं कर सके हैं अब ऐसे शिक्षकों को कार्यमुक्त करने के निर्देश जारी किए हैं. इसको लेकर प्रदेश भर के जिला बेसिक शिक्षाधिकारियों (BSA) को निर्देश जारी कर दिया गया है.

गौरतलब है कि. सूबे के परिषदीय विद्यालयों में पारस्परिक अंत: जनपदीय स्थानांतरण के तहत जो शिक्षक कार्यमुक्त होने या कार्यभार ग्रहण करने से वंचित रह गए थे. उनको लेकर निर्देश दिए गए हैं कि, रविवार को उन्हें कार्यमुक्त किया जाए और कार्यभार ग्रहण कराया जाए. मीडिया में वायरल खबरों के मुताबिक, ट्रांसफर को लेकर बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल ने प्रदेश के सभी जिला बेसिक शिक्षाधिकारियों (BSA) को दिशा-निर्देश जारी कर दिया है. बता दें कि, 13 एवं 14 जनवरी को पारस्परिक अंत: जनपदीय स्थानांतरण के तहत शिक्षकों को कार्यमुक्त किए जाने की प्रक्रिया पूरी कर लेनी थी और उन्हें नए तैनाती वाले स्कूल में कार्यभार ग्रहण कराना था. हालांकि तबादले को लेकर तमाम जिलों में यह प्रक्रिया पूरी कर ली गई थी लेकिन कई जिलों में शिक्षक इससे वंचित रहे गए थे. फिलहाल बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव ने अब ऐसे शिक्षकों को कार्यमुक्त करने के निर्देश जारी कर दिया है.

ये दिए गए हैं निर्देश
सचिव की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि, “बीएलओ/निर्वाचन कार्य में लगे शिक्षकों को निर्वाचन आयोग की ओर से जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप जिला निर्वाचन अधिकारी/जिला मजिस्ट्रेट की सहमति के बाद ही कार्यमुक्त करने एवं कार्यभार ग्रहण कराने की कार्यवाही की जाएगी. जो शिक्षक अकादमिक रिसोर्स पर्सन के दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं, उनकी सहमति लेकर उन्हें अकादमिक रिसोर्स पर्सन के दायित्वों से मुक्त करते हुए कार्यमुक्त कराने और कार्यभार ग्रहण कराने की कार्यवाही की जाएगी. जो शिक्षक निलंबन के बाद बिना दंड के बहाल किए गए हैं और उनके विद्यालय में परिवर्तन नहीं हुआ है, उन्हें भी प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा.”