Hathras Stampede: हाथरस भगदड़ में हुई मौत के मामले में राहुल गांधी ने सीएम योगी को लिखा लम्बा-चौड़ा लेटर…पढ़ें पूरा, देखें क्या रखी है मांग

Share News

Rahul Gandhi on Hathras Stampede: उत्तर प्रदेश के हाथरस में बाबा सूरजपाल के सत्संग के बाद मची भगदड़ में 121 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हो गए थे. इस घटना पर अब सियासत तेज हो गई है. कांग्रेस सांसद राहुल गांधी पहले ही हादसे के पीड़ितों से मिलने के लिए हाथरस जा चुके हैं तो वहीं अब उन्होंने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को एक लेटर लिखा है और पीड़ित के परिजनों को मुआवजा राशि बढ़ाने और जल्द से जल्द प्रदान करने का आग्रह किया है. साथ ही राहुल गांधी ने पत्र के जरिए सीएम योगी को पीड़ित परिजनों की समस्याएं भी बताईं है.

बता दें कि 2 जुलाई को हाथरस में स्वयंभू बाबा सूरजपाल उर्फ भोलेबाबा, उर्फ नारायण हरि के सत्संग के दौरान भगदड़ मच गई थी. बताया जा रहा है कि जैसे ही सत्संग खत्म हुआ और बाबा बाहर निकलने लगे, वैसे ही भीड़ का सैलाब उनके पीछे पैर छूने के लिए दौड़ा, इसी दौरान बाबा के सेवादारों ने भीड़ को रोक दिया. इसी के बाद भगदड़ मच गई. फिलहाल घटना के आयोजक व बाबा के करीबी देव प्रकाश मधुकर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और लगातार पूछताछ की जा रही है. हालांकि हाथरस हादसे के बाद से ही सूरजपाल उर्फ नारायण साकार हरि फरार है.

इस दुख की घड़ी में…
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक लेटर शेयर करते हुए राहुल गांधी ने लिखा है ”हाथरस में भगदड़ हादसे से प्रभावित पीड़ित परिवारों से मुलाकात कर, उनका दुख महसूस कर और समस्याएं जान कर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र के माध्यम से उनसे अवगत कराया. मुख्यमंत्री से मुआवजे की राशि को बढ़ाकर शोकाकुल परिवारों को जल्द से जल्द प्रदान करने का आग्रह किया. इस दुख की घड़ी में उन्हें हमारी सामूहिक संवेदना और सहायता की आवश्यकता है.”

मैं स्तब्ध हूं
राहुल गांधी ने सीएम योगी को सम्बोधित करते हुए पत्र में लिखा है ”हाथरस में हुई भगदड़ की दुर्घटना में 120 से अधिक लोगों की मृत्यु के समाचार से स्तब्ध हूं. हृदय में पीड़ा के साथ आपको यह पत्र लिख रहा हूं और यह जानता हूं कि आप भी यही पीड़ा महसूस कर रहे होंगे. कल सुबह जनपद अलीगढ़ और हाथरस के कई पीड़ित परिवारों से मैंने मुलाकात की और उनका दर्द साझा करने की कोशिश की. हादसा इतना दुखद है कि परिजनों से मिलते समय मेरे पास सांत्वना के शब्द भी कम पड़ गए. अनेक परिवारों ने इस दुर्घटना में अपना जो कुछ भी खोया है, उसकी पूर्ति तो किसी भी प्रकार से सम्भव नहीं है परंतु प्रभावित परिवारों की हर संभव सहायता करके हम उनका दुख कम करने का प्रयास अवश्य कर सकते हैं.”

बढ़ाई जाए मुआवजे की राशि
राहुल गांधी ने पत्र में आगे लिखा है कि ”उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जो मुआवजा घोषित किया गया है, वह बहुत अपर्याप्त है. मेरा आग्रह है कि मुआवजे की राशि बढ़ाई जाए और उसे जल्द से जल्द दिया जाए. साथ ही घायलों का समुचित इलाज कराया जाए और उन्हें भी उचित मुआवजा दिया जाए. पीड़ित परिवारों ने मुझसे यह भी साझा किया कि इस पूरे हादसे के लिए जिम्मेदार वहां के स्थानीय प्रशासन की लापरवाही और संवेदनहीनता है. इस मामले में उचित एवं पारदर्शी जांच न सिर्फ आने वाले समय में इस तरह की दुर्घटनाओं को रोकने की तरफ एक सही कदम होगा, बल्कि इससे इन पीड़ित परिवारों के मन में न्याय-व्यवस्था के प्रति विश्वास भी पुनर्स्थापित होगा. न्याय की दृष्टि से यह भी आवश्यक है कि दोषी व्यक्तियों को कठोर सजा दी जाए. दुख की इस घड़ी में हम सभी की ज़िम्मेदारी है कि पीड़ित परिवारों का साथ दें. इस मामले में आपके हर संभव सहयोग के लिए कांग्रेस पार्टी के समस्त कार्यकर्ता एवं मैं स्वयं उपलब्ध हूं. उम्मीद है इस पूरे मामले की गंभीरता देखते हुए, आप सहायता के संदर्भ में किए जाने वाले कार्यों को विशेष प्राथमिकता प्रदान करेंगे.”