MAHARASHTRA POLITICAL CRISIS: महाराष्ट्र राजनीतिक संकट के बीच सुप्रीम कोर्ट में दलबदल करने वाले विधायकों के खिलाफ दायर की गई याचिका, ताकि न लड़ सकें पांच साल तक चुनाव, देखें किस राजनीतिक पार्टी ने दाखिल की है ये याचिका

June 23, 2022 by No Comments

Share News

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक संकट (Maharashtra Political Crisis) के बीच सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में एक याचिका दाखिल की गई है। जिसमें मांग की गई है कि ऐसे विधायकों पर पांच साल के लिए चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी जाए जो अयोग्य हैं या जिन्होंने अपने पद से इस्तीफे दे कर किसी अन्य राजनीतिक पार्टी में शामिल हो गए हैं। कांग्रेस नेता जया ठाकुर की पहले से लंबित रिट याचिका में दायर एक नए आवेदन में राहत मांगी गई है, जिसमें उन्होंने संविधान की दसवीं अनुसूची के तहत सदन के सदस्यों के रूप में अयोग्य घोषित उम्मीदवारों को फिर से उपचुनाव लड़ने से रोकने के लिए प्रार्थना की थी जिसमें वे चुने गए थे।

UP:भाजपा के खिलाफ “यूपी में का बा…” गाकर चर्चा में आईं बिहार की नेहा सिंह राठौर ने यूपी के ही बेटे से किया “गठबंधन”, देखें वीडियो

KANPUR:हर्ष फायरिंग मामले में बनारसी मिष्ठान भंडार के विदेश से लौटे पोते केशव अग्रवाल पर दर्ज हुआ मुकदमा, शस्त्र लाइसेंस होगा निलम्बित, देखें वीडियो

देखें क्या कहा गया है याचिका में
लाइव लॉ हिंदी वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने जनवरी 2021 में ठाकुर की रिट याचिका में नोटिस जारी की थी। अब, महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट के मद्देनजर, उन्होंने रिट याचिका में एक नया इंटरलोक्यूटरी आवेदन दायर किया है, जिसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार और भारतीय चुनाव आयोग ने अभी तक इस मामले में अपना जवाबी हलफनामा दाखिल नहीं किया है। हालांकि उन्हें 7 जनवरी, 2021 को नोटिस जारी किया गया था। आवेदन में कहा गया है, “राजनीतिक दल इसका गलत तरीके से फायदा उठा रहे हैं और हमारे देश के विभिन्न राज्यों में निर्वाचित सरकार को लगातार गिरा कर रहे हैं। हाल ही में, 18.06.2022 से 22.06.2022 तक वही बात महाराष्ट्र राज्य में दोहराई गई है। ये राजनीतिक दल फिर से हमारे देश के ताना-बाना और डेमोक्रेटिक को खत्म करने का प्रयास कर रहे हैं। इसलिए इस मामले में कोर्ट का तुरंत निर्देश आवश्यक है जैसा कि इस आवेदन में निर्देश के लिए प्रार्थना की गई है।

कानपुर हिंसा मामले में मास्टर माइंड हयात जफर हाशमी को फंडिंग करने के आरोप में पुलिस ने बाबा बिरयानी के मालिक को लिया हिरासत में, देखें इस मामले में कितने जा चुके हैं जेल

VARANASI:पतंग उड़ाने वाले चाइनीज मांझे में फंसे पक्षी को वाराणसी नगर निगम ने कराया आजाद, जिलाधिकारी ने की ये अपील, देखें वायरल वीडियो

इसी के साथ ठाकुर ने अपने आवेदन में आगे कहा है कि हाल ही में राजनीतिक दलों द्वारा संविधान की दसवीं अनुसूची के प्रावधानों को निरर्थक बनाने के लिए अखिल भारतीय प्रयास किया गया है। मणिपुर, कर्नाटक, मध्य प्रदेश जैसे विभिन्न राज्यों में विधायक के अयोग्य होने या इस्तीफा देने के विभिन्न उदाहरणों का हवाला देते हुए ठाकुर ने अपने आवेदन में यह भी कहा है कि ये अलोकतांत्रिक प्रैक्टिस हमारे लोकतंत्र और संविधान का मजाक बना रही हैं।

UP:हापुड़ फैक्ट्री ब्लास्ट मामले में नपेंगे यूपीसीडा आरएम गाजियाबाद, पूर्वांचल और बुंदेलखंड में बढ़ेगा औद्योगिक विकास का दायरा, आगरा में लगेगा 2 हजार करोड़ का प्रोजेक्ट, काटे जाएंगे पेड़, 15 हजार को मिलेगा रोजगार

FRANCE:मदद करने आए कुछ लोगों ने फ्रांस में चुराया अभिनेता अन्नू कपूर का कीमती सामान, वीडियो वायरल कर प्रशंसकों को दी सलाह, कहा फ्रांस आएं तो चोरों से सावधान रहें, बहुत ही जेब कतरे व चोर हैं यहां

आवेदन में आगे कहा गया है कि परिणाम यह है कि इसके कारण, राज्य के लोगों को स्थिरता से वंचित कर दिया जाता है और मतदाताओं को एक समान विचारधारा वाले प्रतिनिधि चुनने के अधिकार से वंचित कर दिया जाता है। इसके अलावा इन निरंतर दलबदल से सरकारी खजाने को भी बड़ा नुकसान पहुंचता है। क्योंकि इसके कारण उपचुनाव होते रहते हैं। इसलिए, आवेदक वर्तमान कानून में बदलाव चाहता है जो ऐसे विधायकों को मौजूदा विधानसभा के कार्यकाल के दौरान उपचुनाव लड़ने की अनुमति देता है। आवेदन में कर्नाटक का उदाहरण दिया गया है, जहां 2019 में इस्तीफा देने वाले कई विधायक उपचुनाव में उसी विधानसभा के लिए फिर से चुने गए। आवेदन का मसौदा एडवोकेट वरुण ठाकुर ने तैयार किया है और इसे एओआर वरिंदर कुमार शर्मा ने दायर किया है।

अन्य खबरें भी पढ़ें-

KANPUR:कानपुर में हुई हर्ष फायरिंग, बनारसी मिष्ठान भंडार के पोते लौटे विदेश से और हर्ष फायरिग के साथ किया गया उनका स्वागत, देखें वीडियो

JHARKHAND:एक युवक ने एक ही मंडप में दो युवतियों की भरी मांग, पूरे समाज के सामने विधि-विधान से किया विवाह, देश भर में हो रही चर्चा, वायरल हुई दिलचस्प लव स्टोरी

BULLDOZER CASE: उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, “बुलडोजर की कार्रवाई का पैगंबर मुहम्मद पर दिए गए बयान के बाद भड़के दंगों से कोई ताल्लुक नहीं, प्रशासन की नापाक तस्वीर करना चाहते हैं चित्रित, देखें और क्या कहा