Lucknow:मुख्यमंत्री योगी के शिकायत प्रकोष्ठ का सचिव बताकर शातिर जालसाज ने दिल्ली के व्यवसायी से किया 50 लाख की ठगी का प्रयास, ठेका देने के नाम पर बुलाया था नैमिषारण गेस्ट हाउस में

August 4, 2022 by No Comments

Share News

लखनऊ। शातिर जालसाज ने खुद को सीएम योगी के शिकायत प्रकोष्ठ का सचिव व आइएएस अधिकारी बताकर दिल्ली सहदरा के व्यवसायी स्वेत गोयल से 50 लाख की ठगी का प्रयास करना चाहा। जालसाज ने व्यवसायी को सरकारी विभाग में ठेका दिलाने के नाम पर नैमिषारण गेस्ट हाउस में बुलाया था और मीटिंग भी की, लेकिन बातचीत के दौरान व्यवसायी को शातिर पर संदेह हो गया। इस पर वह बहाने से बाहर निकलकर पुलिस कंट्रोल रूम, पुलिस कमिश्नर और अन्य अधिकारियों को सूचना दे दी। इसके बाद शातिर को मौके से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इस सम्बंध में हजरतगंज पुलिस ने पीड़ित की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया।

देखें क्या है पूरा मामला
पूरे मामले को लेकर व्यवसायी स्वेत गोयल ने बताया कि कंस्ट्रक्शन के साथ ही उनके कई और बड़े व्यवसाय दिल्ली में हैं। करीब 20 दिन पहले एक परिचित के माध्यम से दिल्ली में रहने वाले ही विष्ट नाम के एक व्यक्ति से उनकी मुलाकात हुई थी। विष्ट ने बताया कि वह लखनऊ में सीएम योगी के एक करीबी आईएएस अधिकारी हैं, जो कि उनके परिचित हैं। वह उन्हें सरकारी ठेके दिलवा देंगे। इसके बाद खुद ही मीटिंग फिक्स कर ली। बीते रविवार को उनको बुलाया गया। स्वेत गोयल ने आगे बताया कि बुलावे के बाद वह लखनऊ पहुंचे। इसके बाद उन्हें मालूम हुआ कि नैमिषारण गेस्ट हाउस के कमरा नंबर 506 में बुलाया गया। जहां, उन्हें विष्ट और एसके बाजपेयी व दो से तीन अन्य लोग मिले।

एसके बाजपेयी ने बताया कि वह आईएएस हैं और सीएम के शिकायत प्रकोष्ठ में सचिव हैं। वह सरकारी विभागों में ठेका दिलवा देंगे। ठेके निकलने वाले हैं। यह कहकर उन्होंने 50 लाख रुपये की मांग की। बिना ठेके के इतनी बड़ी रकम मांगी। यह समझ से परे था। बस इसी के बात कुछ शक हुआ और बहाने से वहां से निकला और आनन-फानन में फिर अपने होटल पहुंचा। वहां से पुलिस कंट्रोल रूम, पुलिस कमिश्नर को फोन किया तो पीआरओ ने रिसीव किया।

वहां सूचना देने के बाद डीसीपी को बताया। इसके बाद तहरीर दी। इसके बाद पुलिस ने एसके बाजपेयी, विष्ट और कुछ अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। इंस्पेक्टर हजरतगंज अखिलेश मिश्रा ने बताया कि आरोपित एसके बाजपेयी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। अन्य की तलाश की जा रही है। एसके बाजपेयी लखीमपुर खीरी का रहने वाला है। उसके खिलाफ शुगर फैक्ट्री, एफसीआइ में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी के भी मुकदमें दर्ज हैं।